BCAA कब लेना चाहिए, फायदे और नुकसान – BCAA Usage, Time of Intake, Benefits and Side Effects in Hindi

BCAA-hindi

उपक्षेप – Introduction

बॉडीबिल्डिंग करने वाले लोग वर्कआउट के साथ कई तरह के सप्लीमेंट लेते हैं, उनमें से BCAA सप्लीमेंट सबसे ज्यादा सेवन किया जाने वाला सप्लीमेंट होता है। लेकिन इस सप्लीमेंट के कुछ फायदे और नुकसान होते हैं।

बॉडीबिल्डिंग करने वाले लोग बड़ी और दमदार मसल्स बनाने के लिए जिम में घंटों पसीना बहाते हैं और इसी के साथ गोलियों और पाउडर जैसे कई तरह के सप्लीमेंट भी लेते हैं। हालांकि मसल्स ग्रोथ के लिए सप्लीमेंट लेना जरुरी नहीं होता है बल्कि आप संपूर्ण और स्वस्थ डाइट की मदद से भी मस्कुलर बॉडी बना सकते हैं, लेकिन फिर भी बॉडीबिल्डिंग में सबसे ज्यादा BCAA (ब्रांच-चैन अमीनो एसिड) सप्लीमेंट का सेवन किया जाता है। आइये जानते हैं कि ये BCAA सप्लीमेंट क्या होता है और इसके क्या-क्या फायदे और नुकसान होते हैं।

BCAA क्या है – What is BCAA in Hindi?

ब्रांच-चैन अमीनो एसिड (BCAA) तीन एसेंशियल एमिनो एसिड का एक ग्रुप होता है, जिसमें ल्यूसीन, इसोल्यूसीन, वैलीन अमीनो एसिड होते हैं। यह मसल्स को भरपूर मात्रा में इन तीनों अमीनो एसिड की पूर्ती करता है।

ल्यूसीन: ल्यूसीन सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण अमीनो एसिड होता है। यह आपके शरीर में जाकर सीधा प्रोटीन सिंथेसिस की प्रक्रिया शुरू कर देता है, जिससे शरीर को एकदम प्रोटीन मिलने लगता है और यह कोशिकाओं के विकास के लिए जरुरी एंजाइम को बढ़ाता है।

इसोल्यूसीन: यह प्रोटीन मसल्स में ग्लूकोज मेटाबॉलिज्म और ग्लूकोज स्तर को बढ़ाता है। जिससे वर्कआउट करते हुए शरीर को ऊर्जा प्राप्त होती है।

वैलीन: वैलीन भी एक जरुरी अमीनो एसिड है, लेकिन यह बाकी दो एसिड की अपेक्षा कम भूमिका रखता है। यह एसिड भी प्रोटीन सिंथेसिस को बढ़ाता है। इन तीनों अमीनो एसिड को आप मीट, अंडों और डेयरी उत्पादों से भी प्राप्त कर सकते हैं।

एमिनो एसिड 3 प्रकार के होते हैं – Types of BCAA in Hindi

  • एसेंशियल एमिनो एसिड
  • नॉन एसेंशियल एमिनो एसिड
  • सेमी एसेंशियल एमिनो एसिड

BCAA काम कैसे करता है – How Does BCAA Work in Hindi

जब आप कैलोरी काट रहे हैं, तो आपका शरीर एक अपचयी स्थिति में होगा। इसका मतलब यह है कि आपका शरीर इसे बनाने के बजाय ऊतक (वसा, कुछ मांसपेशी आदि) को तोड़ देगा (जिसे एनाबॉलिक कहा जाता है।) आपके शरीर से अमीनो एसिड का उपयोग करने के बाद काटते समय मांसपेशियों की हानि होती है जो अन्यथा प्रोटीन संश्लेषण (मांसपेशियों को बनाने के लिए) ऊर्जा स्रोत के रूप में उपयोग किया जाता।

BCAA पाउडर सप्लीमेंट कैसे काम करता है?

जब हम अपने शरीर की ऊर्जा को खर्च करते हैं उस वक्त मांसपेशियों को शरीर टुकड़ों में तोड़ रहा होता है इस क्रिया को उपापचय भी कहते हैं ।

शरीर में अमीनो एसिड मांसपेशियों के पुनर्निर्माण के लिए जरूरी होता है, जिसमें प्रोटीन संश्लेषण की दर प्रोटीन की टूटने की दर से अधिक होना चाहिए अन्यथा यह हमारे शरीर की मांसपेशियों को नुकसान पंहुचा सकता है।

हमारे शरीर में BCAA जो प्रोटीन संश्लेषण की दर को बढ़ावा देता है जिससे मांसपेशियों की डैमेज सेल की पुनः निर्माण हो सके ।

BCAA प्रोटीन की टूटने के स्तर को कम करता है स्पष्टता है कि यह BCAA प्रोटीन संश्लेषण की दर को बढ़ा देता है जिससे मसल रिकवरी तेजी से हो सके।

BCAA के फायदे – Benefits of BCAA in Hindi

मसल्स बढ़ाता है: BCAA सप्लीमेंट मसल्स बढ़ाने के लिए काफी जरुरी होता है। इसमें मौजूद ल्यूसीन एसिड शरीर में प्रोटीन सिंथेसिस की प्रक्रिया शुरू करता है। रेजिस्टेंस ट्रेनिंग के साथ BCAA सप्लीमेंट लेना मसल्स के विकास के लिए जरुरी mTORC1 को बढ़ाता है।

मसल्स कैटाबॉलिस्म को रोकता है: BCAA शरीर में प्रोटीन के टूटने की प्रक्रिया को तेज करता है और इसमें आने वाली दिक्कतों को रोकता है। ट्रेनिंग के दौरान BCAA सप्लीमेंट का सेवन मसल्स गेन को बढ़ाता है।

ऊर्जा देता है: इसमें कैफीन होता है जो आपकी ऊर्जा को बढ़ाता है और ट्रिप्टोफन आपको थकान महसूस होने नहीं देता है। इसे आप एनर्जी के लिए भी ले सकते हैं, जिससे वर्कआउट के दौरान बेहतर प्रदर्शन कर पाएंगे।

BCAA पाउडर सप्लीमेंट के फायदे

BCAA सप्लीमेंट उन सभी लोगों के लिए फायदेमंद होता है, जो लोग एथलीट्स या कार्डियो एक्सरसाइज, जिम या रनिंग करते हैं।

BCAA सप्लीमेंट हमारे डैमेज मसल्स को बनाने में हमारी मदद करता है जब हमारा शरीर कार्य कर रहा होता है, तो वह शरीर से कैटाबॉलिक का ब्रेकडाउन कर रहा होता है जिसे मसल्स डैमेज भी कह सकते हैं।

BCAA पाउडरइस स्थान पर अनाबॉलिक के बहाव को तेज कर देता है जिससे हमारे डैमेज सेल जल्द रिपेयर हो जाते हैं।

BCAA के और भी अनेक फायदे है जैसे कि यह शरीर के वजन को घटाने में भी मददगार होता है।

BCAA सप्लीमेंट जो बॉडी में लूसिन के बहाव को भी बढ़ाता है जिसके वजह से हमारे शरीर का फैट एनर्जी में परिवर्तित हो जाते हैं, जो कि शरीर में फैट के तौर पर जमा होते हैं।

यदि किसी व्यक्ति को स्लीपिंग डिसऑर्डर की समस्या है तो आप इसका उपयोग कर सकते हैं, जिससे आपके स्लीपिंग पूर्ण रूप से पैटर्न मे बनी रहेगी।

BCAA पाउडरके सेवन से शारीरिक तथा  मानसिक थकान दोनों ही कम करने में हमारी मदद करता है।

इसके अलावा BCAA का सेवन प्रशिक्षित व्यक्तियों की तुलना में अप्रशिक्षित लोगो की तुलना में व्यायाम करने के तथा शरीर के थकान को कम करने में अधिक प्रभावशाली होता है।

BCAA सप्लीमेंट के सेवन से ब्लड शुगर स्तर सामान्य शरीर में बना रहता है

2005 के रिसर्च के अध्ययनों से यह पता चला है कि अगर शरीर में ग्लूकोज कमी होती है तो इससे निपटने में BCAA आपके मांसपेशियों की सहायता के लिए शरीर में ल्यूसीन और आइसोलेकिन इंसुलिन स्तर का उत्पादन शरीर में बढ़ा सकता हैं। BCAAs लो ब्लड शुगर लेवल की समस्या को कम कर सकता है।

अन्य सप्लीमेंट

बहुत से लोगों ने तर्क दिया है कि आप अन्य स्रोतों से बीसीएए के समान लाभ प्राप्त कर सकते हैं, जैसे कि whey प्रोटीन| भले ही whey तेजी से अवशोषित प्रोटीन का एक उत्कृष्ट स्रोत है, इसके पास BCAA के एक केंद्रित स्रोत के समान प्रभाव नहीं है।

Whey को एमिनो एसिड मे टूटना पड़ता है, इसलिए यह केवल BCAA के रूप में नहीं टूटता , और भी बहुत से एमिनो एसिड्स में टूटता है। हम यह नहीं कह रहे कि whey प्रोटीन खराब है – किसी भी तरह से नहीं – लेकिन अगर आप विशेष रूप से बीसीएए के गुणों की विशेष रूप से मांग करते हैं,तो BCAA लेना ही सही होगा।

व्यक्तियों की आयु के रूप में, आपके शरीर के भीतर इष्टतम मांसपेशियों के निर्माण के माहौल का निर्माण करना पूरा करना कठिन हो सकता है बीसीएए 35 साल से अधिक आयु के उन लोगों के लिए एक शानदार सप्लीमेंट है जो उन्हें बनाए जा सकने वाले मांसपेशियों को बढ़ा सकते हैं, यहां तक कि युवा प्रोटीन सिंथेसिसके लिए BCAA ले सकते है।

बीसीएए भी विशिष्ट भोजन के बाद लोगों के लिए उत्कृष्ट हैं, या खाने के कार्यक्रम जैसे कि आंतरायिक उपवास।

BCAA की खुराक – बीसीएए पाउडर 5 gram खुराक में लिया जा सकता है, जब जरूरत पड़ने पर रोज 2-4 बार! प्रीवर्कआउट खाएं,

आपको BCAA कैप्सूल में भी मिल जायेगा| कुछ 1000 mg का कैप्सूल उपलभ्द करवाते है तो कुछ 1500 mg का. आप वो 3-4 कैप्सूल वर्कआउट सेपहले ले सकते है|

BCAA पाउडर सप्लीमेंट कैसे ले सकते हैं? – How Can You Take BCAA Powder Supplements in Hindi

आप BCAA सप्लीमेंट को लिक्विड के फॉर्म में ले सकते हैं जैसे मिल्क, जूस, वाटर, यह हमारी खास तौर पर सलाह है कि आप इसे कभी भी डायरेक्ट इंटेक ना करें यह खतरनाक भी हो सकता है।

BCAA सप्लीमेंट आप 10-30 ग्राम प्रति दिन सेवन लोगों के लिए सुरक्षित माना गया है, शरीर मांसपेशियों को प्राप्त करने के लिए सुबह में इसका सेवन कर सकते है। इन नए अध्ययनों के आधार पर, स्वस्थ वयस्कों को कितना प्रति दिन BCAA खुराक कितना लेना चाहिए।

  • महिलाएं: प्रति दिन न्यूनतम 9 ग्राम
  • पुरुष: प्रति दिन BCAAs की न्यूनतम 12 ग्राम

Amino Acid क्यों जरुरी है? – Why is Amino Acid Important in Hindi

Essential Amino Acids का मतलब जो आपकी Body खुद नहीं बना सकती और उसे हमें भोजन के द्वारा लेना होता है या हमें

Supplement के द्वारा लेना होता है और Non Essential Amino Acids जिसको हमारी Body खुद बनाती है. तो अगर हमें वह डाइट से ना भी मिले और Supplement से भी ना मिले तो भी हम उसकी कोई दिक्कत नहीं होती है, क्योंकि हमारी Body उसको खुद बना लेती है. इसके अलावा Semi Essential Amino Acids कंडीशन पर निर्भर होता है कई बार इसकी जरूरत भी पड़ जाती है।

यदि हम अपने भोजन से Amino Acid को प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं. तो हमें Supplement के द्वारा इस Amino Acid को अपने शरीर में देना पड़ेगा. यदि आप Workout कर रहे हैं. एथलीट है या आप Gym योग आदि कर रहे हैं. तो आपको किसी नॉर्मल आदमी से ज्यादा Amino Acid चाहिए. BCAA Amino Acid आज के समय में बहुत ही पॉपुलर Supplement है. यह एक Muscles Supplement है और BCAA लगभग पाउडर या टैबलेट के रूप में लिए जाते हैं।

BCAA कहाँ से ले? – Sources of BCAA in Hindi

इसे भोजन के द्वारा प्राप्त कर सकते हैं और Supplement के द्वारा भी तो यदि हम भोजन के द्वारा प्राप्त करते हैं तो इसको हम अंडे, चिकन, मछली, जितनी भी मास की चीज है उन सभी में BCAA Amino Acid मौजूद है. लेकिन कई चीजों में BCAA कम होता है. क्योंकि Amino Acid के 3 चीजों के साथ मिलकर बनता है. Leucine, Isoleucine, Valine यह तीनों बहुत ही जरूरी है।

तब जाकर एक BCAA Amino Acid बनता है और इन तीनों में Leucine 2 ग्राम Isoleucine1 ग्राम और Valine 1 ग्राम हमें चाहिए तब जाकर हमारा पूरा BCAA Amino Acid बनता है. यानी हम इसको भोजन से प्राप्त कर सकते हैं।

लेकिन यदि आप मांस नहीं खाते हैं यानी आप Veg खाते है तो आप किससे BCAA ले सकते हैं? इसके भी बहुत सारे foods हैं जिनसे आप इसको ले सकते हैं जैसे दाल, सब्जियां, फल लेकिन इनसे आपको BCAA Amino Acid मिल तो जाएगा. लेकिन यह बहुत ही थोड़ा मिलेगा. इसके लिए आपको बहुत ज्यादा Calories लेने की जरूरत होगी जो कि हमारे लिए इतना फायदेमंद साबित भी नहीं होगा. तो उस दौरान हम Supplement को add करते हैं और हमें उस दौरान Supplement लेने की बहुत ज्यादा जरूरत होती है।

आप अंडे मछली चिकन फल-सब्जियां यह सभी चीजें अच्छी मात्रा में खा रहे हैं. तो आपको शायद Supplement की कभी जरूरत ना भी पड़े लेकिन यदि आप यह सभी नहीं खा रहे हैं. या कम खा रहे हैं. तो आपको Supplement लेना ही पड़ेगा. लेकिन आपके व्हे प्रोटीन के अंदर BCAA Amino Acid मौजूद होता है. तो बहुत से लोग व्हे प्रोटीन का भी इस्तेमाल करते हैं. जिससे कि उनको इसकी जरूरत नहीं पड़ती।

BCAA के नुकसान – Side Effects of BCAA in Hindi

विटामिन बी घटाता है: BCAA को पचाने के लिए शरीर विटामिन बी का इस्तेमाल करता है, जिस वजह से शरीर में खासतौर से विटामिन बी6 की कमी होने लगती है। विटामिन बी ब्रांच चैन कीटो एसिड नामक एंजाइम के उत्पादन के लिए जरुरी होता है। इसलिए BCAA के साथ विटामिन बी का सप्लीमेंट लेना भी ना भूलें।

नींद में रूकावट: सेरोटोनिन एक न्यूरोट्रांसमीटर होता है जो शरीर को सुलाने के काम आता है। जब आप BCAA सप्लीमेंट की तरह कम कार्बोहायड्रेट और ज्यादा प्रोटीन लेने लगते हैं, तो शरीर में सेरोटोनिन की मात्रा कम होने लगती है। इसका मतलब है कि इस सप्लीमेंट के सेवन के बाद आपको नींद आने में परेशानी हो सकती है।

BCAA सप्लीमेंट बालों के झड़ने का कारक नहीं होता है, बल्कि इसे रोकने में मददगार होता है। यदि बालों के झड़ने की की बात करें तो यह पोटैशियम, आयरन की कमी के कारण ही बालों का झड़ना होता है, जबकि BCAA की खुराक पोटैशियम और आयरन को बढ़ावा देता है।

मुंहासे ऐसा अक्सर कहा जाता है कि BCAA सप्लीमेंट में मौजूदा ल्यूसिन लिपिड उत्पादन को सक्रिय करता है जिसके कारण मुंहासे होते है परंतु यह कथन सत्य नहीं है।BCAA सप्लीमेंट के सेवन से पेट की समस्याएं, पेट में दर्द और गैस की समस्याएं होती हैं लेकिन यह BCAA के प्रत्यक्ष साइड इफेक्ट नहीं है।

BCAA के सुरक्षा सावधानी – BCAA Safety Precautions in Hindi

हालांकि BCAA आम तौर पर हानिरहित होते हैं, यदि आप निम्न श्रेणियों में से एक होते हैं, तो वे आपके लिए सर्वश्रेष्ठ नहीं हो सकते हैं। सावधानी के साथ प्रयोग करें, और यदि आप  फिर भी प्रयोगकरना चाहते हैं, तो हमेशा अपने चिकित्सक से पहले से परामर्श करें|

गर्भावस्था और स्तनपान यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान कर रहे हैं, तो यह ब्रंच शेड अमीनो एसिड लेने के लिए अनुशंसित नहीं है, क्योंकि यह सुझाव देने के लिए पर्याप्त विश्वसनीय प्रमाण नहीं हैं कि ऐसा करने में सुरक्षित है।

सर्जरी से पहले – बीसीएए को रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावित करने के लिए दिखाया गया है, इसलिए सर्जरी से पहले ही उन्हें लेने की सिफारिश नहीं की जाती है यदि आप उन्हें लेते हैं, तो सर्जरी से गुजरने में कम से कम 2 सप्ताह पहले उन्हें लेने से रोकना सुनिश्चित करें।

यहां हम आपको चार तरह के बॉडी सप्लीमेंट्स बताने जा रहे है

वेट गेनर सप्लीमेंट्स- वेट गेनर सप्लीमेंट्स वजन बढ़ाने वाले सप्लीमेंट्स होते हैं। ये पाउडर के रूप में बाजार में मिलते हैं। इनमें प्रोटीन का स्तर काफी ऊंचा होता है और कई बार ये हाई प्रोटीन नुकसानदायक या जानलेवा भी सिद्ध हो सकते हैं। अगर आप वर्कआउट के लिए जिम जाते हैं और वहां अपने ट्रेनर से अपना वजन बढ़ाने के बारे में पूछते हैं तो अधिकतर ट्रेनर आपको प्रोटीन सप्लीमेंट लेने की राय दे देते हैं। और आप भी जल्दी-जल्दी अपना वजन बढ़ाने के लालच में बिना इसके साइड इफेक्ट जाने इनका इस्तेमाल शुरू कर देते हैं। लेकिन बिना किसी एक्सपर्ट की सलाह लिए इस तरह के सप्लीमेंट लेना आपके लिए घातक है। डाइट से हमारे शरीर में जाने वाला प्रोटीन धीरे-धीरे काम करता है, जबकि इन प्रोटीन सप्लीमेंट्स से शरीर में जो आर्टिफिशियल प्रोटीन जाता है वो अपना असर तुरंत दिखाता है। हमारा शरीर इतना प्रोटीन सहन नहीं कर पाता और पाचन संबंधी परेशानियों का हमें सामना करना पड़ता है। सप्लीमेंट से मिलने वाला प्रोटीन हमारे शरीर में ज्यादा मात्र में पहुंचने के कारण फैट में बदल जाता है और कोलेस्ट्रॉल के रूप में हमारे शरीर में जमा हो जाता है, जिससे स्ट्रेस लेवल बढ़ता है। और दिल की बीमारियां हो सकती हैं।

प्रोटीन शेक्स – प्रोटीन शेक्स भी पाउडर के रूप में ही मिलते हैं। इन्हें जूस या दूध के साथ मिलाकर लिया जाता है। इनका इस्तेमाल भी वजन बढ़ाने के लिए ही किया जाता है। इनके जरिए भी आवश्यकता से अधिक प्रोटीन हमारे शरीर में जाता है, जो नुकसानदायक होता है। प्रोटीन शेक्स की जगह आप बनाना शेक, मैंगो शेक या अन्य किसी फल का शेक बनाकर लें। इसके अलावा अधिक मात्र में फलों का सेवन करें। प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत अंडा हैं। अंडे का सफेद भाग उबाल कर खाएं। अंडे के पीले भाग का सेवन न करें, क्योंकि पीले भाग में लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन होता है, जिसमें अच्छा कोलेस्ट्रॉल नहीं होता।

एनाबोलिक स्टेरॉयड – एनाबोलिक स्टेरॉयड एक तरह की ड्रग होती है, जो इंजेक्शन और कैप्सूल के तौर पर ली जाती है। वैसे इन्हें एक्सपर्ट की सलाह पर दवाई के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। मसल्स बनाने की इस दौड़ में सबसे आगे निकलने की चाहत युवाओं को इन स्टेरॉयड तक ले जाती है। एनाबोलिक स्टेरॉयड का असर जितनी जल्दी दिखाई देता है, उतनी ही जल्दी इसका साइड इफेक्ट भी होता है। इसके लगातार प्रयोग से पुरुष मेल हार्मोस और प्रजनन क्षमता पर इसका विपरीत असर पड़ता है, पुरुष नपुंसक भी हो सकते हैं।

वेट लूज सप्लीमेंट्स – आजकल मोटापा एक आम समस्या बन चुकी है। युवा इसके लिए वेट लूज इंजेक्शंस और कैप्सूल्स इस्तेमाल करते हैं। वेट लूज करने वाली ड्रग्स में क्रोमियम का इस्तेमाल किया जाता है, जो मधुमेह रोगियों को दिया जाता है। आमतौर पर 20 मिनट तक वर्कआउट करने के बाद शरीर की वसा जलनी शुरू होती है, क्योंकि इससे पहले काबरेहाइड्रेट बर्न होता है। लेकिन ये ड्रग्स आठ से दस मिनट के अंदर ही वसा को जलाना शुरू कर देते हैं। इसके अलावा ये ड्रग्स शरीर में पानी की कमी कर देते हैं, जिनसे भी वजन कम होता है। भले ही ये दवाइयां अपना असर जल्दी दिखाती हों, लेकिन इनके नुकसान इससे कहीं ज्यादा हैं। शरीर में पानी की कमी होने के कारण डीहाइड्रेशन हो जाता है, जिससे मौत भी हो सकती है।

अगर आप वर्कआउट के साथ अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं तो आपको हाई प्रोटीन डाइट लेनी चाहिए। अगर आप अपनी बॉडी को मेनटेन रखना चाहते हैं यानी न आप अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं और न ही घटाना चाहते हैं तो आपको बैलेंस डाइट लेनी चाहिए। इसके लिए आपकी डाइट में 50 से 60 प्रतिशत तक काबरेहाइड्रेट, 10 से 15 प्रतिशत प्रोटीन और 25 से 30 प्रतिशत वसा होनी चाहिए।

न्यूट्रीशन ही फिटनेस का असली राज

अच्छा शरीर सभी को अपनी ओर आकर्षित करता है। सभी युवा अपनी बॉडी बनाना, मसल्स बनाना पसंद करते हैं। कुछ लोग मसल्स बनाने के लिए कसरत तो करते हैं, लेकिन पर्याप्त और सही खुराक नहीं लेते। इस खुराक को वो सप्लीमेंट के जरिए लेना चाहते हैं, लेकिन वो ये नहीं जानते कि सप्लीमेंट्स के द्वारा बनाई गई उनकी बॉडी केवल बाहर से देखने में ही सुदृ़ढ़ लगती है, जबकि इन आर्टिफिशियल प्रोटीन्स की वजह से वह अंदर से पूरी तरह खोखली हो जाती है। भले ही आहार से मिलने वाले पोषक तत्व आप पर असर देर से दिखाएं, लेकिन उनका लाभ आपको पूरी उम्र रहता है।

बैन हैं कुछ सप्लीमेंट्स – ड्रग एडवाइजरी बोर्ड के अनुसार, भारत सरकार द्वारा कुछ चुनिंदा सप्लीमेंट्स को ही बाजार में बेचने का अधिकार दिया है। बावजूद इसके इन सप्लीमेंट्स और स्टेरॉयड्स का गोरखधंधा खूब जोरों से फल-फूल रहा है। इसलिए ध्यान रखें कि बिना किसी एक्सपर्ट की सलाह के इन ड्रग्स का इस्तेमाल न करें। यदि आप इनका इस्तेमाल करना चाहते हैं तो सबसे पहले अपना ब्लड टेस्ट, हार्ट टेस्ट और अन्य टेस्ट करवा के उनकी रिपोर्ट के साथ एक्सपर्ट से मिलें और उनके बताए गए सप्लीमेंट का ही इस्तेमाल करें।

निष्कर्ष – Conclusion

अगर आप BCAA का उपयोग गलत ढंग से कर रहे हैं अर्थात आप इसे अधिक मात्रा में ले रहे हैं तो यह किसी न किसी तरीके से नुकसान जरुर पहुंचाएगा। हमारी यह सलाह है कि इसे आप पिल्स में न लेकर पाउडर के फॉर्म में ले जिससे आपकी एमिनो एसिड की जरूरत बहुत आसानी पूर्वक पूर्ण हो जाएगी। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे ज़रूर शेयर करे और साथ ही कमेंट बॉक्स में अपने विचार हमारे साथ  व्यक्त करें।

संदर्भ – References

Photo of Chetu Singhi
Chetu Singhi is a popular Nutritionist in Park Street, Kolkata. She has had many happy patients in her 4 years of journey as a Nutritionist. She has completed Diploma in Obesity Management & Clinical Medical Condition, Diploma in Dietetics, Health and Nutrition (DDHN), Diploma in Sports & Fitness, Certificate in Child Nutrition.

    Leave a Comment

    ZOTEZO IN THE NEWS

    ...