पथरी (किडनी स्टोन) के कारण, लक्षण, और इलाज – Kidney Stones Causes, Symptoms, And, Treatment in Hindi

Kidney Stones in Hindi

उपक्षेप – Introduction

अमेरिकन राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान की एक रिपोर्ट के अनुसार भारतीय आबादी का 12% हिस्सा आज पथरी जैसी बीमारी से ग्रसित है। इसी 12% में 50% मरीज़ों को या तो किडनी में दिक्कतें हो जाती है या फिर एक किडनी पूरे तरीके से ख़राब हो जाती है। [1] पथरी के बारे में ज़्यादातर लोगों को सही जानकारी नही होती। कई दफ़ा लोग सुनी-सुनाई बातों के चक्कर में भी आ जाते हैं। क्योंकि इसके लक्षण शुरू में काफी साधारण होते हैं जिसकी वजह से लोग इसे पहचानने में देर कर देते हैं। इस लेख का उद्देश्य आपको पथरी के बारे में सही जानकारी देने की है। आप इस लेख को अपने जान-पहचान के लोगों के साथ ज़रूर साझा करें ताकि कोई भी इस जानकारी से वंचित न रहे।

किडनी स्टोन क्या है – What is Kidney Stone in Hindi?

सबसे पहला सवाल जो किसी के भी मन में आ सकता है वो यही है कि, पथरी क्या है? चलिए समझते हैं की आखिर पथरी होता क्या है?

पथरी का चिकित्सीय नाम (medical term) Nephrolithiasis है। पथरी (किडनी स्टोन) एक ऐसी समस्या है जिसमे हमारी किडनी या मूत्र पथ (Urinary Tract) में कुछ क्रिस्टलीय खनिज पदार्थ जमा हो जाते हैं।  

ये पदार्थ छोटा मगर काफी ठोस होता है। ज्यादातर किडनी स्टोन का आकार 4-6 मि मी होता है। 4 मि मी आकार से छोटे स्टोन को हमारा शरीर बड़ी ही आसानी से बाहर निकाल देता है। 4-6 मि मी आकार के स्टोन को बाहर निकालना शरीर के लिए थोड़ा मुश्किल होता है और 6 मि मी से ऊपर के स्टोन के लिए उपचार की ज़रुरत पड़ती है।

पथरी को ले कर एक सबसे बड़ी ग़लतफहमी ये होती है कि बिना ऑपरेशन के पथरी ठीक नही होता है। आपको ये समझना होगा कि हमारे शरीर में स्टोन का बनना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। एक स्वस्थ आदमी के शरीर में भी स्टोन बनता है, जिसे हमारा शरीर हमारे अंगों कि सहायता से बाहर निकाल देता है। अतः किडनी स्टोन जैसी बीमारी से डरना बिलकुल नही है। आपको बस ये समझना है कि सही वक़्त पर सही उपचार से कोई भी बीमारी पूर्ण रूप से ख़त्म हो सकती है। आइये अब आगे समझते हैं कि पथरी किन कारणों कि वजह से होता है।

पथरी के कारण – Causes of Kidney Stones in Hindi

हमारे शरीर में पथरी कई वजहों से हो सकता है। आइये एक-एक करके इन वजहों के बारे में बात करते हैं।

  1. अगर आपको पहले कभी पथरी हुआ था तो संभावना है कि आपको पथरी दोबारा हो सकता है।
  2. अगर आपके परिवार में किसी को पथरी है या था तो आपको पथरी होने का खतरा ज़्यादा है।
  3. किडनी का मूल रूप से काम हमारे शरीर में मौजूद गंदगी को निकालने का होता है। किडनी को ये काम सही से करने के लिए कुछ चीज़ों की आवश्यकता होती है। ये चीज़ें किडनी को हम बाहर से प्रदान करते है। ऐसी ही एक चीज़ है ‘पानी’। शरीर में पर्याप्त मात्रा में पानी मौजूद हो तो हम कई बीमारियों से बच सकते हैं। पानी हमारे शरीर से गंदगी को बाहर निकालने में किडनी और लिवर की सहायता करता है। हमारे शरीर में पानी की मात्रा का कम होने से भी पथरी होने का खतरा बढ़ जाता है। इसीलिए पानी तो पीते ही रहना चाहिए।
    यदि आप खाने में प्रोटीन, सोडियम, शुगर और ग्लूकोज़ पर्याप्त से ज़्यादा मात्रा में खा रहे हैं तो आपको पथरी होने की संभावना बढ़ जाती है। ज़रुरत से ज़्यादा प्रोटीन हमारे शरीर में स्टोन-निरोधक रसायन (chemicals) को बनने से रोक देता है। पशु प्रोटीन हमारे शरीर में यूरिनरी सिट्रट (Urinary Citrate) की मात्रा को कम कर देता है, यह एक ऐसा रसायन है जो हमारे शरीर में स्टोन का बनना कम करता है।
  4. वजन का अधिक होना भी पथरी होने की संभावना को बढ़ा देता है।[2]
  5. यदि किसी व्यक्ति को थाइरोइड की शिकायत है तो उसे पथरी की समस्या हो सकती है।
  6. बाइपास सर्जरी या आंत की सर्जरी के बाद भी पथरी की संभावना बढ़ जाती है।

उपरोक्त वजहों के अलावा पथरी के होने के कई और कारण भी हो सकते हैं। अब हम आगे किडनी स्टोन के लक्षण के बारे में समझेंगे। अगर आपको इनमे से कोई भी लक्षण अपने शरीर में दिखे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

पथरी के लक्षण – Kidney Stones Symptoms in Hindi

किडनी स्टोन का आपके शरीर में होने पर आपको इनमे से कोई ना कोई लक्षण ज़रूर देखने को मिलेगा।

  1. अगर आपके मूत्र में खून आने लगे, मूत्र करते समय दर्द महसूस होने लगे, या बार-बार मूत्र आने लगे तो इसका मतलब है की शायद आपको पथरी है। किसी एक लक्षण होने पर भी डॉक्टर को संपर्क करें और इसे हल्के में बिलकुल ना लें।
  2. अगर आपको पेट के निचले हिस्से में या पीठ में बहुत तेज़ दर्द होता रहता है तो ये पथरी का लक्षण भी हो सकता है।
  3. बार – बार बुख़ार या उल्टी का होना भी एक बहुत बड़ा लक्षण है और आपको तुरंत डॉक्टर से सलाह लेने की ज़रुरत पड़ सकती है।

और पढ़ें: शुगर (डायबिटीज) के कारण, प्रकार, लक्षण, बचाव, और इलाज

किडनी स्टोन्स से बचाव – Kidney Stones Prevention in Hindi

अगर आप खुद को पथरी से बचाना चाहते हैं तो नीचे लिखी हुई चीज़ों का पालन ज़रूर करें:

  1. हमारे शरीर में पानी की ज़रुरत आपको पहले ही बता चुके हैं। सबसे पहली चीज़ जो आपको करनी चाहिए वो यही होगा कि पानी पर्याप्त मात्रा में पिए। पानी ज़्यादातर बीमारियों से निज़ात पाने में मदद करता है। पानी की जगह आप फ्रूट-जूस भी ले सकते हैं। जूस ताज़े फल का हो तो ज़्यादा अच्छा होगा।
  2. आपको सोडियम को नियंत्रित मात्रा में ग्रहण करना चाहिए। सबसे ज़्यादा सोडियम आपको नमक से मिलता है। पथरी से बचने के लिए हमेशा ज़्यादा नमक खाने से बचें।
  3. दूध, दही, और पनीर में पाया जाने वाला कैल्शियम एक ऐसा पोषक तत्व है, जो पथरी को होने से रोक सकता है। कैल्शियम हमारे शरीर में ऑक्सालेट (oxalate) के साथ जुड़ जाता है। ऑक्सालेट एक ऐसा पदार्थ है जो पथरी या स्टोन बनाता है। कैल्शियम ऑक्सलेट के प्रभाव को कम कर देता है। [2]

यहाँ ध्यान देने वाली बात ये है कि, कैल्शियम सप्लीमेंट्स (calcium supplements) ले कर शरीर में कैल्शियम न बढ़ाएँ। सप्लीमेंट्स आपके शरीर में कैल्शियम ऑक्सालेट स्टोन्स को बढ़ा सकते हैं। कैल्शियम हमेशा खाने के रूप में ही लें।

  1. पथरी से खुद को बचाने के लिए आपको जानवरों से मिलने वाले प्रोटीन को भी सही मात्रा में खाना चाहिए। ज़्यादा प्रोटीन हमारे शरीर में पथरी के खतरे को बढ़ा सकता है।
  2. विटामिन सी सप्लीमेंट्स हमारे शरीर में विटामिन सी की मात्रा को बढ़ा देते हैं। विटामिन सी खुद को ऑक्सालेट में परिवर्तित कर लेते हैं, ऑक्सालेट फिर आगे जा कर स्टोन्स के रूप में हमें नुकसान पहुँचा सकते हैं। [3]

बहुत सी ऐसी चीज़ें हैं, जिसे खाने से पथरी का खतरा हो सकता है। हमे इन चीज़ों को सही मात्रा में खाना चाहिए। ऐसा ना हो कि पथरी के डर से हम विटामिन, प्रोटीन, नमक और कैल्शियम खाना ही बंद कर दें। अगर ऐसा होता है तो हमारे शरीर में इन चीज़ों की कमी हो सकती है, जिसके कारण कई दूसरी बीमारियाँ हमें घेर सकती हैं।

पथरी का परीक्षण – Diagnosis of Kidney Stones in Hindi

पथरी का इलाज करने से पहले आपका डॉक्टर पथरी के आकार के बारे में जानेंगे। इसके लिए आपको कुछ जाँच करवाने पड़ सकते हैं। आपको यूरिन जाँच, खून जाँच, एक्स किरण टेस्ट, सीटी स्कैन करवाना पड़ेगा। सीटी स्कैन में इस्तेमाल होने वाली डाई किडनी को नुकसान पहुँचा सकती है। अगर आपको डाई से कोई दिक्कत हो या कभी किडनी में कुछ दिक्कत हुई हो तो डॉक्टर को पहले ही बता देना सही होगा।

पथरी का इलाज – Treatment of Kidney Stones in Hindi

पथरी का आकार अगर छोटा होता है तो डॉक्टर आपको कुछ दवाइयाँ दें सकते हैं। ये दवाइयाँ पथरी को जड़ से खत्म करने में सहायता करती हैं। दवाइयों के साथ डॉक्टर आपको नियमित रूप से पानी पीने कि सलाह भी देंगे।

अगर किडनी स्टोन का आकार बड़ा है तो ऐसी स्तिथि में आपको कोई दूसरा उपाय देखना होगा। पथरी को किडनी या मूत्र पथ से हटाने के ये तरीके होते हैं:

  1. प्रद्याती तरंग लिथोट्रिप्सी (Shock Wave Lithotripsy): यह एक ऐसी तकनीक है जिसके द्वारा प्रद्याती तरंग (shock wave) के द्वारा स्टोन को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ दिया जाता है। ये टुकड़े मूत्र के सहारे शरीर से बाहर निकल जाते हैं।
  2. यूरेट्रोस्कोपी (Ureteroscopy): इस इलाज के दौरान डॉक्टर एक नली के द्वारा स्टोन का पता लगाने की कोशिश करते हैं। स्टोन का पता लगने पर उसे छोटे-छोटे हिस्सों में तोड़ दिया जाता है या फिर उसे बाहर निकाल दिया जाता है। अगर स्टोन का आकार छोटा हो तो ही उसे बाहर निकला जाता है। स्टोन को तोड़ने के लिए लेज़र किरण का उपयोग किया जाता है।
  3. परक्यूटीनियस नेफ्रोलिथोटॉमी (Percutaneous Nephrolithotomy): इस इलाज के दौरान डॉक्टर एक पतली नली को सीधा किडनी के अंदर डाल कर स्टोन को बाहर निकाल लेते हैं।

कई दफ़ा लोगों को लगता है कि किडनी स्टोन का इलाज बहुत ही महंगा होता है। इसी वजह से बहुत से लोग इसका इलाज करने से हिचकिचाते हैं। किडनी स्टोन का इलाज संभव है और ये काफी किफायदि भी होता है। किडनी स्टोन से निजाद पाने का औसतन खर्चा दस हज़ार से एक लाख रुपये तक है।

पथरी के जोखिम कारक और जटिलताएं – Risks And Complications of Kidney Stones in Hindi

सही समय पर सही इलाज किसी भी बीमारी को रोकने में सक्षम होता है। मगर कई बार ऐसा होता है कि जब तक किसी बीमारी का पता चलता है तब तक बहुत देर हो जाती है।

ऊपर हमने आपको बताया कि पथरी जैसी बीमारी बहुत आम है और इसका इलाज काफी आसान और किफायदि भी है। लेकिन फिर भी किसी वजह से अगर ये बीमारी घर कर जाए और पता लगाने में देर हो जाए तो काफी खतरनाक भी बन सकती है।

अगर स्टोन ज़्यादा समय तक मूत्र पथ या किडनी में मौजूद रह गया तो किडनी या मूत्र पथ को ब्लॉक कर सकता है। किडनी के ब्लॉक होने पर हमारे शरीर से गंदगी को बाहर निकालने का पूरा तंत्र बिगड़ सकता है। मूत्र पथ में दिक्कत होने पर भी कई तरीके की बीमारी और संक्रमण हो सकता है। [4]

अगर किसी व्यक्ति को एक बार पथरी हो चूका है तो उनको दोबारा होने का खतरा काफी बढ़ जाता है। अगर सही तरीके से इलाज नही हुआ तो भी काफी खतरा हो सकता है। इलाज के दौरान या बाद में लोगों को कई तरीके की बीमारी हो सकती है। इलाज के दौरान इंसान को सेप्टिसीमिया जैसी गंभीर बीमारी हो सकती है। मूत्रवाहिनी में भी दिक्कतें आ सकती है।

किडनी स्टोन्स के लिए ओटीसी दवा – OTC Medicines For Kidney Stones in Hindi

क्रम संख्याकिडनी स्टोन्स के लिए ओटीसी दवाअभी खरीदें
1Kapiva Ayurveda 100% Organic Stone Go Juiceअभी खरीदें
2Kalash Pharmaceutical Pvt.Ltd Disocalअभी खरीदें
3Kee Pharma, Kee Stone, Ayurvedic medicineअभी खरीदें
4HOMEOBUY REMIDIES Kidney Stone Removalअभी खरीदें
5Dr. Vaidya’s New Age Ayurvedaअभी खरीदें

निष्कर्ष – Conclusion

पथरी कोई बहुत बड़ी बीमारी नहीं है। हमारे शरीर में स्टोन का बनना कोई बड़ी बात नहीं होती। स्टोन हमारे शरीर में बनता है और मूत्र के द्वारा बाहर भी आ जाता है। दिक्कत तब आ सकती है जब ऐसा ना हो। स्टोन का शरीर से बाहर ना आने का एक बहुत बड़ा कारण है शरीर में पानी कि अनुपस्थिति। सही मात्रा में पानी ना पीने पर कई और गंभीर बीमारियाँ हो सकती है।

हम खुद को पथरी होने से बचा सकते हैं। ये लेख पढ़ने के बाद हमें पता चल चूका है कि कौन सी चीज़ को कितने मात्रा में खाना चाहिए। आप किसी भी चीज़ को अचानक खाना या पीना बंद मत करिए। बल्कि धीरे-धीरे चीज़ों को कम करिये। उतना ही खाइए जितना आपके शरीर को ज़रुरत हो। एक दिन में सारा पानी डाल देने से पेड़ जल्दी नहीं बढ़ता, ठीक इसी तरीके से ज़्यादा मात्रा में चीज़ों का सेवन करना कोई लाभ नहीं दें सकता। शरीर कि ज़रूरतों को समझ कर सिर्फ उसे पूरा करने से कई बीमारी को घर के बाहर निकाल सकते हैं।

अगर किसी को पथरी हो भी जाता है तो घबराने कि कोई बात नहीं है। पथरी का इलाज मुमकिन है और महंगा नहीं है। हमने आपको ऊपर एक औसतन कीमत बताई है। आप अपने डॉक्टर से सलाह लीजिए और खुद को ठीक कर लीजिए। पथरी का इलाज कुछ घंटों में पूरा हो सकता है।  हमने आपको कुछ शुरूआती लक्षणों के बारे में भी बताया है। अगर आपको या आपके किसी जान-पहचान के शख्स को उन लक्षणों में से कुछ भी हो तो डॉक्टर को दिखाने से ना चूके। हम खुद अपने डॉक्टर बनने के चक्कर में खुद का बहुत बड़ा नुकसान करवा सकते हैं। समझदार बनिए क्योंकि दुनिया को समझदार लोगों कि काफी ज़रुरत है।

अगर आपको ये लेख पासना आया है तो इसे अपने दोस्तों और घरवालों के साथ ज़रूर साझा करे। इसके अलावा नीचे टिप्पणी अनुभाग में अपनी प्रतिक्रिया साझा करना न भूलें।

और पढ़ें: लिवर रोग के प्रकार, लक्षण, कारण, परीक्षण, और इलाज

संदर्भ – References

Manalee Guha, Hritwick Banerjee, Pubali Mitra, and Madhusudan Das on The Demographic Diversity of Food Intake and Prevalence of Kidney Stone Diseases in the Indian Continent [1]

American Kidney Fund Fighting on All Fronts [2]

Harvard Health Publishing Staff on 5 steps for preventing kidney stones [3]

NHS on Blocked ureter and kidney infection [4]

Team Zotezo
We are a team of experienced content writers, and relevant subject matters experts. Our purpose is to provide trustworthy information about health, beauty, fitness, and wellness related topics. With us unravel chances to switch to a balanced lifestyle which enables people to live better!

Leave a Comment

ZOTEZO IN THE NEWS

...