विटामिन के के स्रोत, कमी के लक्षण, रोग, फायदे और नुकसान – Vitamin K Sources, Deficiency, Disease, Benefits And Side Effects in Hindi

Vitamin K

विषय सूची

उपक्षेप – Introduction

विटामिन के एक पोषक तत्व है, जिसकी एक निश्चित मात्रा शरीर के लिए आवश्यक होती है। यह मानव शरीर में रक्त का थक्का बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विटामिन के प्राकृतिक रूप से पत्तेदार हरी सब्जियों में पाया जाता है। विटामिन के सप्लीमेंट के रूप में और साथ ही सामयिक क्रीम के रूप में भी प्राप्त किया जा सकता है। शरीर में विटामिन के की कमी या अधिकता अनेक प्रकार की समस्याओं को उत्पन्न कर सकती है, अतः इसका नियमित तथा नियंत्रित सेवन स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। विटामिन के की अत्यधिक कमी आंतरिक और बाह्य रक्तस्राव का कारण बन सकती है जिसके कारण सम्बंधित व्यक्ति की मृत्यु तक हो सकती है। अतः विटामिन के की कमी से सम्बंधित लक्षणों के प्रगट होने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आज के इस लेख में आप जानेंगे कि विटामिन के क्या है इसे कहाँ से प्राप्त किया जा सकता है, विटामिन के की कमी के लक्षण, रोग क्या हैं तथा इसके फायदे और नुकसान के बारे में।

विटामिन के क्या है – What is Vitamin K in Hindi

हमारे शरीर में विटामिन ‘के’ की कमी कई शारीरिक समस्याओं का कारण बन सकती है। अच्छे  स्वास्थ्य के लिए कई विटामिन, खनिज और प्रोटीन की जरुरत होती है। विटामिन में भी कई प्रकार हैं और इन्हीं विटामिनों में से एक बेहद महत्वपूर्ण है विटामिन ‘के’। ये विटामिन फैट में आसानी से घुल जाने वाले विटामिनों में से एक है। ये खून में मिलकर कई तरह के कार्यों को अंजाम देता है। इसके अलावा यह हड्डियों को मजबूत बनता है और खून में कैल्शियम के स्तर को नियंत्रित रखने में मुख्य भूमिका निभाता है।

विटामिन के वसा में घुलनशील एक आवश्ययक पोषक तत्व है, जो आमतौर पर रक्त के थक्के सम्बन्धी विकारों, हड्डी के चयापचय और रक्त कैल्शियम के स्तर को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मानव शरीर में विटामिन के की पूर्ति खाद्य पदार्थों से होती है। चिकित्सकों का मानना है कि विटामिन के सीधे तौर पर ऑस्टियोपोरोसिस और उच्च रक्तचाप से लेकर वैरिकाज़ नसों और रोजेशिया तक की चिकित्सकीय स्थितियों को भी प्रभावित कर सकता है।शरीर में विटामिन के की अपर्याप्त मात्रा अत्यधिक रक्तस्राव और घाव के उत्पादन का कारण बन सकती है। विटामिन के के पर्याप्त स्तर फ्रैक्चर के जोखिम को कम करने के साथ-साथ हड्डी स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए भी आवश्यक हो सकते हैं। व्यक्ति खरोंच, निशान, खिंचाव के निशान और जलन से राहत पाने के लिए त्वचा पर सामयिक क्रीम के रूप में विटामिन के का प्रयोग कर सकते हैं।

विटामिन-के के प्रकार – Types of Vitamin K in Hindi

विटामिन के1 विटामिन के1 को रासायनिक रूप से फ़ाइलोक्विनोन के नाम से जाना जाता है। यह कृत्रिम रूप में पौधों से प्राप्त खाद्य पदार्थ या पत्तेदार सब्जियों में पाया जाता है। इसके अलावा यह डेयरी उत्पादों और वनस्पति तेलों से भी प्राप्त किया जाता है। यह आहार सम्बन्धी विटामिन के का मुख्य प्रकार है।

विटामिन के2 विटामिन के2 का रासायनिक नाम मेनक्विनोन है। यह पशु उत्पादित खाद्य पदार्थों और किण्वित खाद्य पदार्थों जैसे- अंडे, पनीर और मांस में पाया जाता है। आंतों मे बैक्टीरिया द्वारा विटामिन के1 को के2 में परिवर्तित करके भी प्राप्त किया जाता है।विटामिन के2 को कई अलग-अलग प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है, जिनमें से सबसे महत्वपूर्ण हैं एमके-4 और एमके-7।

विटामिन-के के स्रोत – Sources of Vitamin K in Hindi

चूंकि शरीर पर्याप्त मात्रा में विटामिन के का उत्पादन करने में सक्षम नहीं है, इसलिए शरीर में विटामिन के की पूर्ति आहार या खाद्य पदार्थों के माध्यम से की जाती है। इसे सप्लीमेंट के रूप में भी प्राप्त किया जा सकता है। पत्तेदार हरी सब्जियों में विटामिन के1 अधिक मात्रा में होता है, इसके अतिरिक्त यह विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों सभी प्राप्त किया जा सकता है, जैसे:

काले, कोलार्ड, पालक, लेटिष, ब्रोकोली, शतावरी, ब्रसेल्स स्प्राउट्स, गोभी, शलजम, डेयरी उत्पाद, अनाज, वनस्पति तेल, सोयाबीन, इत्यादि।

अनार – अनार में राइबोफ्लेविन, विटामिन सी, थियामिन और नियासिन के साथ विटामिन के भी उचित मात्रा में पाया जाता है। विटामिन के की कमी को दूर करने के लिए इस फल को आहार में शामिल करें।

हरी सेम – हरी सेम में थियामिन, विटामिन सी, राइबोफ्लेविन, नियासिन के साथ विटामिन के भी अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसलिए, विटामिन के की कमी दूर हो सके इसके लिए इसे खाने की सलाह दी जाती है।

पालक – पालक में विटामिन के की प्रचुर मात्रा पाई जाती है। इस कारण इसे विटामिन K के स्रोत के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

पत्ता गोभी – पत्ता गोभी में विटामिन ए, विटामिन बी-6, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, विटामिन सी के साथ ही विटामिन के भी पाया जाता है। इस कारण इसका उपयोग विटामिन के की कमी से होने वाले जोखिमों को कम करने में सहायक होते हैं।

कीवी – कीवी में कैल्शियम, आयरन और मैग्नीशियम के साथ विटामिन ए, बी-6, विटामिन सी और विटामिन के उपलब्ध होता है। इसको डायट में लेने से विटामिन के की कमी दूर होती है।

काजू – ड्राई फ्रूट की बात की जाए तो काजू में विटामिन के की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसलिए इसे विटामिन के के स्रोत के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

शरीर के लिए विटामिन ‘के’ अति उपयोगी है। विटामिन के की कमी कई गंभीर विकारों को आमंत्रण दे सकती है। इससे बचने के लिए या इस समस्या का निदान पाने के लिए ऊपर दिए गए उपाय बेहद लाभदायक साबित हो सकते हैं। लेकिन किसी भी उपाय को अपनाने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

विटामिन-के के कार्य और उपयोग – Functions and Uses of Vitamin K in Hindi

शरीर में, विटामिन के रक्त का थक्का जमाने में प्रमुख भूमिका निभाता है। अतः इसका उपयोग “ब्लड थिनिंग” दवाओं के प्रभाव को कम करने या इससे उल्टा करने के लिए किया जाता है। इसके अतिरिक्त मानव शरीर में विटामिन के अनेक प्रकार के कार्यों के लिए उपयोगी है, जो निम्न हैं:

विटामिन के  प्रोथ्रोम्बिन नामक प्रोटीन को सक्रिय करता है जो रक्त के थक्के, कैल्शियम, चयापचय और हृदय स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

विटामिन के का सबसे महत्वपूर्ण कार्य कैल्शियम के जमाव (कैल्सीफिकेशन) को नियंत्रित करना है।

यह रोजेशिया, जो चेहरे पर लालिमा और पिम्पल्स का कारण बनता है, के इलाज के लिए विटामिन के स्थानीय स्तर पर प्रयोग किया जाता है।

सर्जरी के बाद, त्वचा उपचार को तेज करने तथा चोट और सूजन को कम करने के लिए भी विटामिन के का उपयोग किया जाता है।

विटामिन के, स्टेरॉयड के कारण होने वाली हड्डियों की क्षति को कम करने के साथ-साथ डायलिसिस की स्थिति में कुल कोलेस्ट्रॉल को कम का कार्य करता है।

इसका उपयोग कमजोर हड्डियों (ऑस्टियोपोरोसिस) की समस्या को रोकने और इलाज करने के लिए भी किया जाता है।

यकृत की बीमारी के साथ-साथ खुजली से छुटकारा दिलाने के लिए विटामिन के  की अहिम भूमिका होती है।

विटामिन-के  की कमी – Vitamin-K Deficiency in Hindi

विटामिन के  की कमी से तात्पर्य, शरीर में आवश्यकता से कम मात्रा में विटामिन के  की पूर्ति से है। विटामिन के  की कमी के सबसे सामान्य कारणों में अपर्याप्त आहार का सेवन, अपर्याप्त अवशोषण और लिवर डिजीज को शामिल किया जा सकता है, जिसके कारण शरीर में विटामिन का भंडारण कम हो सकता है, लेकिन यह समस्या आंतों में विटामिन के 2 के कम उत्पादन के कारण भी उत्पन्न हो सकता है। वयस्कों में विटामिन के  की कमी काफी दुर्लभ है, क्योंकि भोजन के माध्यम विटामिन के1 की पर्याप्त मात्रा हो जाती है। हालांकि, कुछ आंतरिक समस्याएँ और कुछ दवाओं का सेवन विटामिन के  के अवशोषण और विटामिन के 2 के निर्माण में हस्तक्षेप कर सकती हैं, जिसके कारण इसकी कमी हो सकती है। शिशुओं में विटामिन के  की कमी बहुत अधिक देखने को मिलती है।

विटामिन के की कमी की जांच करवाएं – How to check Vitamin K deficiency

विटामिन ‘के’ की कमी को जांचने के लिए डॉक्टर आपका ब्लड टेस्ट करते हैं। इस टेस्ट को प्रोथ्रोम्बिन टाइम टेस्ट कहा जाता है। इस टेस्ट के दौरान डॉक्टर आपका थोड़ा सा खून लेकर उनमें कुछ कैमिकल मिलाते हैं और देखते हैं कि खून को जमने में या इसका थक्का बनने में कितना समय लगता है। अगर यह समय 13.5 सेकंड्स से ज्यादा है तो शायद आपके शरीर में इस विटामिन की कमी हो सकती है।

विटामिन-के  की कमी के लक्षण – Symptoms of Vitamin K deficiency

विटामिन के की कमी से सम्बंधित मुख्य संकेत रक्त का थक्का न जमना है। इसके अतिरिक्त विटामिन के  की कमी के संकेत और लक्षणों में निम्न को शामिल किया जा सकता है, जैसे:

  • आसानी से चोट लगना या त्वचा पर चोट के निशान दिखाई देना।
  • नाक या मसूड़ों से खून का बहाव।
  • घाव, इंजेक्शन साइट या सर्जिकल साइट्स से अत्यधिक रक्तस्राव होना।
  • भारी मासिक धर्म।
  • जठरांत्र पथ से रक्तस्राव होना।
  • मूत्र या मल में रक्त की उपस्थिति।
  • प्रोथ्रोम्बिन समय में वृद्धि अर्थात रक्त का थक्का बनने में अधिक समय लगना।
  • अधिक गंभीर मामलों में, खोपड़ी के भीतर रक्तस्राव भी शामिल हो सकता है।लक्षणों के आधार पर विटामिन के की कमी पर संदेह तब किया जा सकता है, जब सम्बंधित व्यक्ति को कुपोषण या कुपोषण से सम्बंधित एक पुरानी स्थिति न हो, एंटीबायोटिक दवाओं का लंबे समय तक सेवन न कर रहा हो और गंभीर बीमार जैसे कैंसर या डायलिसिस का रोगी न हो, इत्यादि।

विटामिन के की कमी से रोग – Vitamin K Deficiency Diseases in Hindi

विटामिन के की कमी मुख्य रूप से आंतरिक और बाह्य रक्त स्त्राव का कारण बनती है। इसके अतिरिक्त विटामिन के की कमी अनेक प्रकार के रोगों के जोखिमों को बढ़ाने के लिए उत्तरदाई होती है, जिसके अंतर्गत निम्न रोगों को शामिल किया जा सकता है, जैसे:ऑस्टियोपोरोसिस, हड्डी के नुकसान, बिलियरी सिरोसिस, रोजेशिया, हृदय रोग। हड्डियों में फ्रैक्चर जैसे– स्पाइनल फ्रैक्चर, हिप फ्रैक्चर और नॉन-स्पाइनल फ्रैक्चर। लीवर कैंसर, फेफड़ों का कैंसर, स्तन कैंसर इत्यादि।

विटामिन-के की खुराक – Supplements for Vitamin-K in Hindi

  • 6 महीने से कम उम्र के शिशुओं के लिए एआई 2.0 एमसीजी है। यह माना जाता है कि ये शिशु औसत वजन के साथ स्वस्थ हैं और स्तनपान कर रहे हैं।
  • 7 महीने से 12 महीने की उम्र के शिशुओं को 2.5 एमसीजी की आवश्यकता होती है।
  • 1 से 3 वर्ष के बच्चों को 30 एमसीजी के ऐआई की सलाह दी जाती है, और 4 से 8 साल के बच्चों को 55 मिलीग्राम विटामिन के की आवश्यकता होती है।
  • 9 से 13 वर्ष की आयु के किशोरों को 60 एमसीजी की आवश्यकता होती है, जबकि 14 से 18 वर्ष के बीच के किशोरों को 75 मिलीग्राम विटामिन डी की जरूरत होती है।
  • 19 वर्ष से ऊपर के पुरुषों को 120 एमसीजी की एआई की आवश्यकता होती है, जबकि महिलाओं को 90 एमसीजी (गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं सहित) की आवश्यकता होती है।

प्रत्येक व्यक्ति को उत्तम स्वास्थ्य बनाये रखने के लिए विटामिन के की एक निश्चित मात्रा की आवश्यकता होती है। विटामिन के की आवश्यक दैनिक मात्रा प्रत्येक व्यक्ति की उम्र, लिंग और शारीरिक स्थिति के अनुसार भिन्न-भिन्न हो सकती है।

विटामिन-के के लाभ – Benefits of Vitamin K in Hindi

हृदय के लिए लाभदायक है

विटामिन ‘के’ हृदय के लिए लाभदायक है, क्योंकि ये धमनियों में कैल्शियम को जमने से रोकता है, जिससे रक्त का संचार सही तरीके से शरीर और धमनियों में बना रहता है, इससे ब्लड प्रेशर को संतुलित करने में मदद मिलती है।

याद्दाश्त को बेहतर बनाता है

70 वर्ष से अधिक आयु वाले कुछ लोगों पर किए गए एक अध्ययन में ये पाया गया है कि जिनके रक्त में विटामिन के1 की मात्रा ज्यादा पाई गई थी, वे बेहतर तरीके चीज़ों को याद रखने में सक्षम थें। इसलिए ये कहा जा सकता है कि ये विटामिन कुछ हद तक याद्दाश्त को बेहतर बनाने में आपकी मदत कर सकते हैं।

कैंसर के खतरे को कम करता है

एक अध्ययन से पता चला कि आहार में विटामिन ‘के’ का  सेवन कैंसर के खतरे को काम कर सकता है। ये विटामिन शरीर के फंक्शन में काम आने वाला एक मुख्य विटामिन है। इसकी कमी शरीर में कई तकलीफें पैदा कर सकती है साथ ही इसका ज्यादा इस्तेमाल भी कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का कारण बन सकता है। इसलिए अपने आहार में किसी भी तरह का बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

विटामिन के के फायदे त्वचा के लिए फायदेमंद

विटामिन के एक खरोंच को तेजी से ठीक करने में मदद करता है। यह देखा गया है कि लेज़र ट्रीटमेंट के कारण होने वाले घावों पर विटामिन के क्रीम लगाने से घावों की गंभीरता कम हो जाती है। विटामिन के क्रीम का यह उपचार प्रभाव आवेदन के शुरुआती दिनों में अधिक स्पष्ट होता है। अध्ययनों से पता चला है कि विटामिन के काले घेरे से लड़ने में मदद करता है जो उम्र बढ़ने के साथ आंखों के नीचे बनते हैं और चेहरे की झुर्रियों के गठन को कम करने और यहां तक ​​कि रिवर्स करने में मदद करते हैं।

विटामिन के के फायदे हड्डियों के लिए फायदेमंद

हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए विटामिन के आवश्यक है और ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में मदद करता है । ऑस्टियोपोरोसिस बुजुर्ग लोगो में एक अत्यंत सामान्य स्थिति है और विश्व स्तर पर फ्रैक्चर के प्रमुख कारणों में से एक है । यह अनुमान लगाया जाता है कि तीन में से एक महिला और 50 वर्ष से ऊपर के पांच पुरुषों में से एक को ऑस्टियोपोरोसिस के कारण फ्रैक्चर का अनुभव होता है। ऑस्टियोपोरोटिक लोगों के एक अध्ययन में, यह नोट किया गया कि जिन लोगों को कैल्शियम के साथ विटामिन के की खुराक दी गई थी दूसरों की तुलना में उनके अस्थि घनत्व को बेहतर बनाए रखा, जिन्हें केवल कैल्शियम दिया गया था। शोधकर्ताओं ने दिखाया है कि विटामिन के का निम्न स्तर हड्डियों के घनत्व के साथ जुड़ा हुआ है। अध्ययनों से पता चला है कि उच्च विटामिन के की खपत ने पुरुषों और महिलाओं में हिप फ्रैक्चर के जोखिम को काफी कम कर दिया है। इसने महिलाओं में अस्थि खनिज घनत्व को बढ़ाने में भी मदद की। एक गहरी हरी पत्तेदार सब्जी की कम से कम एक सेवारत शामिल करने की सिफारिश की जाती है।

विटामिन के के फायदे दिल के लिए फायदेमंद

संवहनी कैल्सीफिकेशन एक ऐसी स्थिति है जहां रक्त वाहिकाओं के भीतर पट्टिका का निर्माण होता है। हृदय की बीमारियों ( हृदय रोगों ) के लिए रक्त वाहिकाओं का कैल्सीफिकेशन एक महत्वपूर्ण जोखिम कारक है । अध्ययनों से पता चला है कि विटामिन के से भरपूर आहार उपचार के बाद धमनियों में कैल्सीफिकेशन को उलटने में सक्षम हो सकता है जो हृदय में रक्त के थक्कों के निर्माण को रोकता है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि कैल्सीफिकेशन से रक्त वाहिकाओं की पूरी सुरक्षा के लिए विटामिन के1 और विटामिन के2 दोनों का सेवन आवश्यक है। इसके अलावा, विटामिन के2 , रक्त वाहिकाओं को कैल्सीफिकेशन से बचाने में अधिक कुशल है।

अध्ययनों से पता चला है कि विटामिन डी की खुराक के साथ विटामिन के का सेवन पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं में रक्त वाहिकाओं के लोचदार गुणों को बेहतर ढंग से बनाए रखने में मदद करता है, जो महिलाओं की तुलना में केवल विटामिन डी की खुराक लेते हैं।

विटामिन के के फायदे गठिया के लिए फायदेमंद

ऑस्टियोआर्थराइटिस एक दुर्बल करने वाली स्थिति है जो आपके शरीर के जोड़ों को प्रभावित करती है जो उपास्थि को नुकसान पहुंचाते हैं और एक संयुक्त में दो हड्डियों के बीच की जगह को कम करते हैं। इससे अकड़न और दर्द होता है। हाल के शोध से पता चला है कि विटामिन के की कमी वाले लोगों में ऑस्टियोआर्थराइटिस को रोकने में विटामिन के की महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है।

रुमेटीइड गठिया एक ऑटोइम्यून बीमारी है जहां शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली जोड़ों में दर्द और सूजन के लिए हमला करती है । अध्ययनों से पता चला है कि विटामिन के2 की खुराक गठिया के कारण होने वाली सूजन को कम करती है।

विटामिन के के फायदे नवजात शिशुओं के लिए फायदेमंद

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की सिफारिश है कि जन्म के पहले घंटे के बाद सभी नवजात शिशुओं को इंट्रामस्क्युलर इंजेक्शन के रूप में विटामिन के पूरक दिया जाए। विटामिन के प्रीटरम शिशुओं, जन्म के आघात वाले शिशुओं और मां के गर्भ में कुछ दवाओं के संपर्क में आने वाले शिशुओं में रक्तस्राव को रोकने के लिए आवश्यक है जो विटामिन के अवशोषण में बाधा उत्पन्न करते हैं। विटामिन K की कमी वाले रक्तस्राव के रूप में जाना जाने वाले एक दुर्लभ विकार से बचाने के लिए शिशुओं को विटामिन के की खुराक दी जानी चाहिए। शिशुओं में विटामिन के की खुराक आवश्यक है क्योंकि अधिकांश शिशुओं को गर्भ में या स्तनपान के दौरान उनकी माताओं से पर्याप्त विटामिन के प्राप्त नहीं होता है। विटामिन के की कमी से आंतरिक रक्तस्राव के परिणामस्वरूप मस्तिष्क क्षति और यहां तक ​​कि मृत्यु भी हो सकती है।विटामिन के के फायदे इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करता है : विटामिन के इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करने के लिए जाना जाता है और मधुमेह और पूर्व मधुमेह वाले लोगों के लिए सहायक हो सकता है।

विटामिन के के नुकसान – Side Effects of Vitamin K in Hindi

शरीर में विटामिन के स्तर के लिए एक ऊपरी सीमा स्थापित नहीं की गई है क्योंकि इसमें विषाक्तता पैदा करने की बहुत कम संभावना है। फूड एंड न्यूट्रिशन बोर्ड द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया है कि खाद्य स्रोतों या विटामिन की खुराक से विटामिन के के सेवन से कोई हानिकारक प्रभाव मनुष्यों या जानवरों में नहीं बताया गया है।

आशा है इन सभी गुणों को जान ने के बाद आपको कभी यह नहीं बोलना पड़ेगा की विटामिन के के फायदे, स्रोत, दैनिक खुराक और नुकसान क्या होते है।

उम्मीद है आपको हमारा यह लेख विटामिन के के फायदे, स्रोत और नुकसान पसंद आया होगा ,अगर आपको भी विटामिन के के फायदे, स्रोत और नुकसान के बारे में पता है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताये।

और अगर आपके घर परिवार में भी कोई विटामिन के के फायदे, स्रोत और नुकसान जानना चाहते है तो आप उन्हें भी यह लेख भेजे जिस से उन लोगो को भी विटामिन के के फायदे, स्रोत और नुकसान के बारे में पता चलेगा।

विटामिन के युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन की कोई भी ऊपरी सीमा निर्धारित नहीं की गई है। अर्थात विटामिन के युक्त खाद्य पदार्थों के अत्यधिक सेवन से विषाक्तता उत्पन्न नहीं होती है। लेकिन विटामिन के युक्त सप्लीमेंट को अनुचित मात्रा में लेने से कुछ स्थितियों में विषाक्तता उत्पन्न हो सकती है। विटामिन के अनेक सामान्य दवाओं के साथ प्रतिक्रिया कर समस्याएँ उत्पन्न कर सकता है।

निष्कर्ष – Conclusion

गुर्दे की बीमारी के कारण डायलिसिस उपचार प्राप्त करने वाले व्यक्तियों द्वारा विटामिन के का उच्च मात्रा में सेवन हानिकारक हो सकता है। अतः विटामिन K सप्लीमेंट की निश्चित मात्रा के सेवन के लिए डॉक्टर से सलाह लेनी आवश्यक है। विटामिन के लिवर की गंभीर समस्या के कारण उत्पन्न थक्के की समस्याओं के इलाज के लिए प्रभावी नहीं है। विटामिन के की उच्च खुराक लिवर की बीमारी से सम्बंधित व्यक्तियों में थक्के की समस्या को बदतर बना सकती है।

संदर्भ – References

Team Zotezo
We are a team of experienced content writers, and relevant subject matters experts. Our purpose is to provide trustworthy information about health, beauty, fitness, and wellness related topics. With us unravel chances to switch to a balanced lifestyle which enables people to live better!

Leave a Comment

ZOTEZO IN THE NEWS

...